Cake and Pastries

केक और पेस्‍ट्री में होता है क्‍या अंतर, जानते हैं आप ?

ऐसे तो सिर्फ देखने में आपको केक और पेस्‍ट्री में कोई अंतर नजर नहीं आएगा। मगर ऐसा है नहीं। दोनों में काफी अंतर होता है। बात करें अगर रेसिपी की तो भी दोनों को बनाने का तरीका काफी अलग है। आइए जानते हैं केक और पेस्‍ट्री के बारे में अलग-अलग बातें…

बेकरी के एक्‍सपर्ट्स की मानें तो दोनों की रेसिपी और इसमें डाली जाने वाली सामग्री काफी अलग-अलग होती हैं। केक को बनाने का तरीका थोड़ा मुश्किल होता है जबकि पेस्‍ट्री आसानी से और जल्‍दी तैयार हो जाती है ।

केक को कई आकार दिए जा सकते हैं, जबकि पेस्‍ट्री सामान्‍य तौर पर रेक्‍टेंगल और ट्राइएंगल शेप में ही बनाई जाती हैं। अगर फ्लेवर की बात करें तो पेस्‍ट्री में काफी कम ऑप्‍शन होते हैं वहीं केक के फ्लेवर की लिमिट नहीं है। वहीं केक को बिना शुगर के भी बनाया जा सकता है जबकि पेस्‍ट्री में शुगर डालना अनिवार्य है ।

डेकोरेशन और कलरिंग किसी भी चीज को खूबसूरत बनाने का काम करती है। बात की जाए जो केक और पेस्‍ट्री की तो इन्‍हें सजाए बना नहीं खाया जाता। यह बात अलग है कि पेस्‍ट्री को सजाने के लिए कम स्‍कोप होता है वहीं केक पर आप अपनी क्रिएटिविटी दिखा सकते हैं। केक के ऊपर आप अपने प्रियजनों का नाम भी लिखवा सकते हैं, जबकि ये सुविधा आपको पेस्‍ट्री में नहीं मिलेगी।

बेकरी एक्‍सपर्ट्स का कहना है कि इन दिनों केक और पेस्‍ट्री दोनों का चलन काफी बढ़ गया है, लेकिन दोनों के पोषक तत्‍वों में काफी अंतर होता है। केक में अधिक पोषक तत्‍व होते हैं, क्‍योंकि इसको बनाने में अधिक चीजों का प्रयोग होता है। आजकल डायबीटीज़ और दिल के मरीजों को देखते हुए शुगर फ्री केक बनने लगे हैं। जबकि यह सुविधा अभी पेस्‍ट्री में उपलब्‍ध नहीं है।

दोनों की खपत और प्रॉडक्‍शन का स्‍तर अलग-अलग होता है। केक को कभी-कभी शादी, पार्टी, बर्थडे, शादी की सालगिर‍ह और अन्‍य मौकों पर प्रयोग किया जाता है। जबकि पेस्‍ट्री को लोग सामान्‍यत: रुटीन में ही खा लेते हैं। इसलिए बेकरी की दुकानों में आपको केक केवल सेंपल के तौर पर जबकि पेस्‍ट्री बहुतायत में मिलती है।

मुद्दे की बात यह है कि सभी पेस्‍ट्री केक हो सकती हैं, लेकिन सभी केक पेस्‍ट्री नहीं हो सकते।

(Visited 72 times, 2 visits today)